Subscribe Us

header ads

प्रकृति प्रेम

जीवन आधार जय, प्रकृति प्रेम समाहार ।
प्रकृति पहले देह दे, अनेक खाय प्रहार । ।

प्रकृति के पूर्वागामी वैज्ञानिक श्री जाम्भोजी ने सम्पूर्ण जगत के चराचर जीव के कल्याण से औतप्रोत 29 नियम की आचार संहिता बिश्नोइयों की जीवन शैली से जोड़ा । जाम्भोजी ने मनुष्य और प्रकृति में सखा भाव (आपात सहायक व्यवहार) का बीज बोया । 
<img src="https://1.bp.blogspot.com/-pYotKBOXeUg/W2UKkHteFOI/AAAAAAAAL-Y/nxWS5frs4jsKS36x1NzeRwE1zTr8Q6wBgCLcBGAs/s1600/FB_IMG_1533348037133.jpg"alt="प्रकृति प्रेम">
Bishnoi Culture

 रहिमजी ने ठीक ही कहा है:
जलहिं मिलाय रहिम ज्यों,
कियो आपु सम छीर ।
अंगवहि आपुहि आप त्यों,
सकल आंच की भीर । ।      

इसी सखा भाव से जनित अद्वितीय दृष्य खेजड़ली में साकार हुआ  । जो विश्व को प्राकृतिक संपदा संरक्षण से जोड़ने की सुदूर परंपरा की व्यवस्थित सुरुवार त में प्रथम कदम था । वह आज भी मरूधरा में प्राकृतिक संपदा को अक्षुण रूप में संजोए अपना स्थान बनाए हुए है । 

#JAi_खीचङ

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां