जीव प्रेमी बिश्नोई : Jeev Premi Bishnoi | जय खीचड़

जीव प्रेमी बिश्नोई



जिण भूमि बिश्नोई रेवे,
बठे वन’जीव रो ठोर।
जीव जगत सूं प्रेम रो,
दृष्टांत मिले नी ओर।।

रूंखा ताहीं सर देवे,
पंथ जगत मं जोर ।
रूंखा मं प्राण हुवे,
ज्यूं प्राण मनुरी डोर।

रूंख मिनख न सांसा देवे,
अठे रूंखारी सांस मिनख ठोर।
जीव जगत सूं प्रेमरो,
दृष्टांत मिले नी ओर।।

जीवां खातिर देह तजे,
बे पावे सुरगे ठोर।
जीव दया नित राखे,
बे मिनख मरूरा भोम।

देह तज जीव बचावे,
बे लेवे जन्म नी ओर।
जीव जगत सूं प्रेमरो,
दृष्टांत मिले नी ओर।।

वन’जीव रक्षीत रेवे,
बिश्नोईयां रे ठोर।
निरभै बठे विचरण करे,
के हिरण के मोर।।

जंभ कृपा सदा रेवे,
चाले धर्म री डोर।
जीव जगत सूं प्रेमरो,
दृष्टांत मिले नी ओर।।
 


लेखक के बारे में

0/Post a Comment/Comments

कृपया टिप्पणी के माध्यम से अपनी अमूल्य राय से हमें अवगत करायें. जिससे हमें आगे लिखने का साहस प्रदान हो.

धन्यवाद!


Hot Widget