होली के पावन पर्व की शुभ मंगलकामनाएं

होली के पावन पर्व की शुभ मंगलकामनाएं

►सतयुग में भक्त प्रहलाद के साथ 33 करोड़ लोगों ने भगवान विष्णु की भक्ति की थी। नृसिंह अवतार लेकर भगवान विष्णु ने सबका मोक्ष करने का वचन प्रहलाद को दिया था। उन वचनों के अनुसार सतयुग में प्रहलाद के साथ पांच करोड़ जीवों का उद्धार हुआ। 
Holi & Bishnoism
होली के पावन पर्व की शुभ मंगलकामनाएं || फोटो साभार: स्व. रामप्रसाद सीगड़

►त्रेतायुग में राजा हरिश्चन्द्र के साथ सात करोड़ भक्तों का उद्धार हुआ। 

►द्वापर युग में धर्मराज युधिष्ठिर के साथ नौ करोड़ भक्तों का उद्धार हुआ। 

►शेष बचे 12 करोड़ भक्तों के कारण भगवान विष्णु ने जम्भेश्वर के रूप में अवतार धारण किया और सवा पिच्यासी वर्षों तक भगवान जम्भेश्वर के रूप में विद्यमान रहकर 12 करोड़ भक्तों का उद्धार किया। बिश्रोई धर्म की स्थापना की जो आज वर्तमान बिश्रोई समाज है। इस क्रम के अनुसार और भगवान विष्णु के वचनों के अनुसार बिश्रोई समाज प्रहलाद पंथी है।

-------------------------------------------
होली के पावन पर्व की शुभ मंगलकामनाएं
-------------------------------------------

0/Post a Comment/Comments

कृपया टिप्पणी के माध्यम से अपनी अमूल्य राय से हमें अवगत करायें. जिससे हमें आगे लिखने का साहस प्रदान हो.

धन्यवाद!


Hot Widget