आइए जानें पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष स्व. श्री राम नारायण जी बिश्नोई

स्वर्गीय श्री राम नारायण जी बिश्नोई 

बिश्नोई समाज की राजनीती के पुरोधा, 36 कॉम हितैषी, पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष व भाजपा के कद्दावर नेता रामनारायण जी बिश्नोई 
पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष स्व. श्री राम नारायण जी बिश्नोई को 8वीं पुण्यतिथि पर शत-शत नमन..

 स्वर्गीय श्री राम नारायण जी बिश्नोई नेक, निर्भिक, ईमानदार, शांत स्वभाव और अद्भुत प्रतिभा के धनी थे. स्वर्गीय राम नारायण जी बिश्नोई का जन्म 1 जून 1932 को हनुमानगढ़ के संगरिया गांव में अपने ननिहाल में हुआ. इनके पिता श्री  चौधरी हरभजनराम जी पंजाब के फिरोजपुर जिले की अबोहर तहसील के रायपुर गांव के रहने वाले थे. स्वर्गीय बिश्नोई द्वारा शुरुआत की पढ़ाई पूर्ण करने के बाद LLB की पढ़ाई पूर्ण की तत्पश्चात सन 1955 में अधिवक्ता के रूप में प्रेक्टिस के लिए जोधपुर आ गए. आप सन 1958 -59 में जिला परिषद सदस्य जोधपुर रहे. सन् 1978 से 1980 तक राजस्थान आवासन मंडल के सदस्य भी रहे. इस दरमियान आप  सन 1973 से तीन बार, बार काउंसिल ऑफ राजस्थान के सदस्य भी रहे. 1977 से 1978 तक राजस्थान बार एसोसिएशन के उपाध्यक्ष भी रहे. सन 1987 में राजस्थान हाई कोर्ट एडवोकेट एसोसिएशन के चेयरमैन भी रहे. वर्ष 1986 से 1990 तक बार काउंसिल ऑफ राजस्थान के अध्यक्ष भी रहे. सन् 1975-76  के किसान आंदोलन में आपने किसानो के हितों के लिए सक्रिय भागेदारी निभाई और मीसा बन्दी के रूप में जेल भी गए. आप पहली बार 1990 में ओसियां से विधायक चुनकर नवीं विधानसभा में पहुंचे. आप पहली बार भेरो सिंह शेखावत सरकार में मंत्रिमंडल में ऊर्जा मंत्री बने उस समय आपको कृषि विभाग का अतिरिक्त कार्यभार भी सौंपा गया था. सन् 1991 में आपने लोकसभा का चुनाव भी लड़ा. सन 1998 में आप फलौदी विधानसभा से दूसरी बार विधानसभा में पहुंचे. वही सन 2003 में भी फलौदी से विधानसभा का चुनाव जीतकर आपने विधानसभा में उपाध्यक्ष के पद को सुशोभित किया. सन् 2006 में आप नाइजीरिया में आयोजित कॉन्फ्रेंस में भी भाग ले चुके है. आप सन 2012 में अखिल भारतीय बिश्नोई महासभा के अध्यक्ष चुने गए. आपको 2004 में बेस्ट सिटीजन ऑफ़ इंडिया व् 2006 में भारत ज्योति अवार्ड से भी नवाज जा चूका है. आप अपने समय के नामचीन अधिवक्ता रहे. 

राजनिती से लेकर सामाजिक व धार्मिक कार्यों में अविस्मरणीय योगदान देने वाले श्री रामनाराण बिश्नोई ने 10 अक्टुबर 2012 देह त्याग दी. आपकी स्मृति में इंडियन लॉ इंस्टीट्यूट की ओर से 2013 में जय नारायण व्यास स्मृति भवन टाउन हॉल जोधपुर में न्यायधीश जीएस सिंघवी के मुख्य आतिथ्य में व्याख्यानमाला का आयोजन भी रखा गया था. आपके यूँ रुखसत होने से बिश्नोई समाज और राजनीतिक जगत को बहुत बड़ी क्षति हुई जिसकी भरपाई कर पाना असंभव है. अपने लोक हित के कार्यों व बिश्नोई समाज की उन्नत्ति में किये गए अविस्मरणीय कार्यों के लिए हमेशा सबसे दिलों में रहेंगे.


0/Post a Comment/Comments

Stay Conneted

Hot Widget