चौ. भजन लाल बिश्नोई: जीवन परिचय | Bhajan Lal Bishnoi Biography | बिश्नोई रत्न : Bishnoi Ratna

 चौ. भजन लाल बिश्नोई: जीवन परिचय | Bhajan Lal Bishnoi Biography | बिश्नोई रत्न : Bishnoi Ratna 

चौ. भजनलाल बिश्नोई | Bhajanlal Bishnoi


 


चौ. भजनलाल बिश्नोई :  एक परिचय
जन्म : 6 अक्तूबर, 1930
माता-पिता : श्रीमती कुंदना देवी श्री खेराज मांझू
धर्मपत्नी : श्रीमती जसमां देवी
पुत्री- पुत्र:  रोशनी देवी, चन्द्रमोहन, कुलदीप सिंह
जन्म स्थान : कोड़ांवाली, तत्कालीन बहावलपुर

रियासत (वर्तमान पाकिस्तान में) में स्थित
शिक्षा : इण्टरमीडिएट
ग्राम पंच: 1960 ई.
जिला परिषद् (हिसार ब्लॉक-II) सदस्य : 1961
आदमपुर से विधायक : 1968, 1972, 1977 1982, 1991, 1996, 2000, 2005, 2008
हरियाणा के कृषि मंत्री : 1970-1975
हरियाणा के सहकारिता मंत्री : 1978
प्रथम बार मुख्यमंत्री : 28 जून, 1979
दूसरी बार मुख्यमंत्री : 23 मई, 1982
बिश्नोई रत्न की उपाधि से अलंकृत: 10 मार्च, 1986
राज्यसभा सदस्य : 2 अगस्त, 1986
केन्द्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्री : 21 अक्तूबर, 1986
केन्द्रीय कृषि मंत्री : 14 फरवरी, 1988
फरीदाबाद से सांसद : नवम्बर, 1989
तीसरी बार मुख्यमंत्री : 23 जून, 1991
करनाल से सांसद : 2 मार्च, 1998
नेता प्रतिपक्ष : 10 मार्च, 2000
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष : 1 अगस्त, 2002
हजकां (बी.एल.) की स्थापना : 2 दिसम्बर, 2007
हिसार से सांसद : मई, 2009
निधन : 3 जून, 2011



 चौ. भजनलाल बिश्नोई जीवन व सियासी परिचय

 चौधरी भजनलाल बिश्नोई का जन्म 6 अक्टूबर 1930 को बहावलपुर पाकिस्तान पंजाब में हुआ था इन्होंने अपने सियासी शुरुआत आदमपुर पंचायत में पंच के रूप में उसके बाद हरियाणा के सबसे ज्यादा समय के लिए तीन बार मुख्यमंत्री चुने गए।

केंद्रीय राजनीति में राजीव गांधी के नेतृत्व वाली भारत सरकार में मंत्री रहे। एक बार राज्यसभा सदस्य भी रहे। आखिरी बार 2009 में हिसार से हजकां के चुनाव चिह्न पर लोकसभा का चुनाव जीता। पंजाबी बोली के क्षेत्र और पानी के मुद्दे पर भजनलाल पंजाब के आतंकवादियों के निशाने पर भी रहे। वे वर्ष 1977 में देवीलाल की बहुमत वाली सरकार गिराने के बाद चर्चा में आए। 2005 में भूपेंद्र सिंह हुड्डा को मुख्यमंत्री बनाने से खफा होकर भजनलाल बिश्नोई ने कांग्रेस से नाता तोड़ दिया। 2004 में भिवानी लोकसभा सीट से बेटे कुलदीप बिश्नोई को चुनाव लड़ाया। सामने देवीलाल के पोते अजय चौटाला और बंसीलाल के बेटे सुरेंद्र सिंह थे। इस चुनाव में जीत से भजनलाल का नाम और चमक गया। सबसे बड़ी बात यह रही कि बिश्रोई समाज की जनसंख्या हरियाणा में मात्र आधा प्रतिशत है और इसके बावजूद चौ. भजनलाल अपनी मिलनसार प्रवृति व हर समाज के लोगों को साथ लेकर चलने की क्षमता के चलते तीन-तीन बार मुख्यमंत्री बने। चौ. भजनलाल जी एक अनुभवी व दूरदर्शी राजनीतिज्ञ होने के साथ लोकप्रिय नेता थे।


चौ.भजनलाल बिश्नोई व्यक्तित्व:


चौ. भजनलाल बिश्नोई मृदुलभाषी व सरल स्वभाव व्यक्तित्व के धनी थे। उन्होंने एक सफल राजनीतिज्ञ के रूप में अपनी छाप छोड़ी। उन्होंने अपने कार्यकाल में बिश्रोई समाज के प्रवर्तक गुरु जम्भेश्वर के नाम पर हिसार में विश्वविद्यालय की स्थापना कर पर्यावरण के प्रति संदेश व दूरदर्शिता का परिचय दिया। चौ. भजनलाल जी ने जीवन पर्यन्त देश सेवा के साथ समाज सेवा की। उन्होंने बिश्नोई समाज के उत्थान व मंदिरों के निर्माण में अपना अहम योगदान दिया। चौ. भजनलाल जी को बिश्नोई समाज के विकास में योगदान के लिए बिश्नोई समाज द्वारा "बिश्नोई रत्न" उपाधि से नवाजा गया।


चौ. भजनलाल जी का बिश्नोई समाज के उत्थान में योगदान :


उल्लेखनीय है कि चौधरी भजनलाल ने बिश्नोई समाज तथा बिश्नोई धर्म की उन्नति के लिए अविस्मरणीय सेवाएं प्रदान की है। उनके दूरदर्शी चिन्तन के कारण ही जाम्भोजी की समाधि स्थल पर भव्य मंदिर का निर्माण होने के साथ ही दिल्ली जैसे महानगर में समाज की करोड़ों रूपयों की सम्पति के रूप में छात्रावास, जम्भेश्वर मंदिर एवं धर्मशाला भी विशेष उपलब्धि रहा है। इसके अतिरिक्त हरिद्वार में भी बिश्रोई मंदिर व धर्मशाला का निर्माण करवाया। यही नहीं पंचकूला, सिरसा, डबवाली व टोहाना में भी बिश्रोई मंदिरों का निर्माण करवाया। उन्होनें मथुरा में बिश्रोई मंदिर के निर्माण के लिये प्लाट ले लिया था, पर मंदिर निर्माण का अवसर नहीं मिला। इसके साथ ही उन्होनें बिश्नोई समाज एवं जाम्भोजी द्वारा प्रतिपादित पर्यावरण संरक्षण के सूत्रों एवं पर्यावरण रक्षा की खेजड़ली बलिदान जैसी घटनाओं को भारत की लोकसभा में प्रस्तुत कर विश्वपटल पर चमकाया। जिस समय वे केन्द्र सरकार में कृषि एवं पर्यावरण मंत्री थे, उस वक्त के लोकसभा भाषण में खेजड़ली बलिदान की घटना पर दिया गया भाषण विशेष सम्मानित भाषण घोषित किया गया था। समाज के विभिन्न प्राचीन स्थलों के जीर्णोद्धार का कार्य भी चौधरी भजनलाल के मार्गदर्शन में अद्भुत तरीके से किया गया। उनके कार्यकाल में ही खेजड़ली गाँव में शहीद स्मारक बनाया जा सका। उनकी सेवाएं बिश्नोई समाज की भावी पीढ़ी के लिए प्रेरणा का स्त्रोत रहेगी। उन्होंने राजनीति में भी अविस्मरणीय सेवाएं दी है। आज वो भले ही हमारे बीच नहीं है लेकिन इन्हीं विशेषताओं के कारण आम जनता के साथ ही प्रत्येक बिश्नोई के दिल में उनका स्थान है और हमेशा रहेगा। चौ. भजनलाल जी जैसे दिवंगत राजनीतिज्ञ व समाजसेवी की कहानी कभी खत्म नहीं होती बल्कि इतिहास बना जाती हैं।

 


चौ. भजन लाल जी का राजनैतिक सफरनामा


पांच दशक तक राष्ट्रीय राजनीति में छाये रहे चौ. भजनलाल जी की राजनीतिक यात्रा भारतीय लोकतंत्र के विभिन्न सोपानों से होकर गुजरी है। स्वतंत्र भारत में शायद ही ऐसा कोई राजनेता हो जिसने लोकतंत्र की छोटी से छोटी इकाई से अपनी यात्रा आरंभ की हो और बड़ी से बड़ी इकाई को भी छुआ हो। चौ. भजन लाल जी एकमात्र ऐसे राजनेता थे जिन्होंने लोकतंत्र में इतने पदों को सुशोभित किया था।

  • चौ. भजनलाल जी की राजनैतिक यात्रा सन् 1960 में पंचायत के पंच पद से शुरू हुई।
  • 1961 में हिसार ब्लाक-2 के लिए जिला परिषद् सदस्य चुने गये। 1965 में हिसार ब्लाक-2 के चेयरमैन बने तथा 4 वर्षों के लिए कांग्रेस हुई। वे ग्राम पंचायत आदमपुर के हिसार मंडल के प्रधान बने।
  • 12 व 14 मई, 1968 को हुए हरियाणा विधानसभा चुनाव में चौ. भजनलाल कांग्रेस की टिकट लेकर पहली बार विधानसभा चुनाव के मैदान में आए तथा 23723 मत लेकर 10044 मतों से विजयी हुए। इस चुनाव में आजाद प्रत्याशी कैप्टन बलराज सिंह को 13679 मत प्राप्त हुए।
  • चौ. भजनलाल जी विधायक बनने के बाद 1970 से 1975 तक हरियाणा मंत्रिमंडल में कृषि मंत्री रहे। 11 मार्च, 1972 को हुए हरियाणा विधानसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी चौ. भजनलाल जी ने 28928 मत लेकर चौ. देवीलाल को 10968 मतों से पराजित कर दिया। चौ. देवीलाल को 17960 मतों से संतोष करना पड़ा।
  • 12 जून, 1977 को हुए हरियाणा विधानसभा चुनाव में जनता पार्टी के प्रत्याशी चौ. भजनलाल जी 33193 मत प्राप्त कर 20803 मतों से विजयी रहे और तीसरी बार विधायक बने। आजाद प्रत्याशी श्री मोहर सिंह को 12390 मत मिले।
  • 1978-79 में सहकारिता, डेयरी विकास, पशुपालन, श्रम व रोजगार तथा वन मंत्री बने।
  • 28 जून, 1979 को पहली बार हरियाणा के मुख्यमंत्री बने। 19 मई, 1982 को हुए हरियाणा विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशी चौ. भजनलाल ने 42227 मत लेकर लोकदल प्रत्याशी श्री नरसिंह बिश्नोई को 24712 मतों से पराजित किया। श्री नरसिंह बिश्नोई को 17515 मत प्राप्त
  • 23 मई, 1982 को दूसरी बार हरियाणा के मुख्यमंत्री बने तथा इस पद पर 5 जून, 1986 तक बने रहे। 2 अगस्त, 1986 को संसद (राज्यसभा के सदस्य चुने गये तथा 21 अक्टूबर 1986 को केन्द्र सरकार में पर्यावरण तथा
  • वन मंत्री तथा 14 फरवरी, 1988 को कृषि मंत्री बने और इस पद पर 1 दिसम्बर, 1989 तक बने रहे। नवम्बर, 1989 में फरीदाबाद निर्वाचन क्षेत्र से कांग्रेस की टिकट पर लगभग 1,37,000 वोटों से जीतकर पहली बार लोकसभा पहुंचे।
  • 20 मई, 1991 को हुए हरियाणा विधानसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी चौ. भजनलाल ने 48117 मत लेकर मास्टर हरिसिंह को 31596 मतों से पराजित किया। इस चुनाव में मास्टर हरिसिंह को 16521 मत मिले। 24 जून, 1991 को तीसरी बार हरियाणा के मुख्यमंत्री बने। 8 मई 1996 तक इस पद पर सेवा प्रदान करते रहे।
  • 28 अप्रैल, 1996 को हुए हरियाणा विधानसभा चुनाव में चौ. भजनलाल ने कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में 54140 मत प्राप्त करके श्री सुरेन्द्र सिंह को 20007 मतों से पराजित किया। इस चुनाव में ह. वि. पा. प्रत्याशी श्री सुरेन्द्र सिंह को 34133 मत प्राप्त हुए।
  • 2 मार्च, 1998 को करनाल निर्वाचन क्षेत्र से संसद (लोकसभा) के सदस्य चुने गए। इस चुनाव में चौ. भजनलाल ने 327750 मत प्राप्त करके 152061 मतों से श्री आई.डी. स्वामी को पराजित किया। 1999 के लोकसभा चुनाव में कारगिल युद्ध के कारण बी.जे.पी. के पक्ष में लहर थी। इसलिए चौ. भजनलाल कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में करनाल से विजय कायम नहीं रख पाये। 22 फरवरी, 2000 को हुए हरियाणा विधानसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी चौ. भजनलाल ने 63174 मत प्राप्त करके प्रो. गणेशी लाल को 46057 मतों से पराजित किया। इस चुनाव में प्रो. गणेशी लाल को मात्र 17117 मत मिले।
  • 10 मार्च, 2000 को हरियाणा विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता बने।
  • 01.08.2002 को हरियाणा प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष बने।
  • फरवरी, 2005 को हुए हरियाणा विधानसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी चौ. भजनलाल जी रिकार्ड जीत हासिल करते हुए 86963 मत प्राप्त करके इनेलो पार्टी के प्रत्याशी श्री राजेश गोदारा को 71081 मतों से पराजित कर दिया। इस चुनाव में श्री राजेश गोदारा को मात्र 15882 मत मिले।
  • 2 दिसम्बर, 2007 को हरियाणा जनहित कांगेस (बीएल) का गठन चौ. भजनलाल जी के संरक्षण में हुआ।
  • हरियाणा विधानसभा आदमपुर के 2008 के उपचुनाव में 26000 से अधिक वोटों से जीते। मई, 2009 के लोकसभा चुनाव में हिसार से सांसद बने ।
  • इसके अतिरिक्त 17 जून, 1987 को हुए हरियाणा विधानसभा चुनाव में चौ. भजनलाल जी की धर्मपत्नी श्रीमती जसमां देवी, कांग्रेस प्रत्याशी ने 41152 मत प्राप्त करके धर्मपाल सरसाना को 9272 मतों से पराजित कर दिया। इस चुनाव में श्री धर्मपाल सरसाना को 31880 मत प्राप्त हुए।
  • उनके ज्येष्ठ पुत्र श्री चन्द्रमोहन भी कालका विधानसभा क्षेत्र से चार बार विधायक चुने गये हैं तथा हरियाणा के उपमुख्यमंत्री भी रह चुके हैं। उनके छोटे पुत्र श्री कुलदीप बिश्नोई ने 1998 के उपचुनाव में आदमपुर से और 2004 के लोकसभा चुनाव में भिवानी संसदीय क्षेत्र से जीत दर्ज की थी। कुलदीप बिश्नोई वर्तमान विधानसभा में भी आदमपुर विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।


इन्हें भी पढ़ें:


0/Post a Comment/Comments

कृपया टिप्पणी के माध्यम से अपनी अमूल्य राय से हमें अवगत करायें. जिससे हमें आगे लिखने का साहस प्रदान हो.

धन्यवाद!


Hot Widget