शक्ति का दूसरा रूप : परी बिश्नोई आईएएस

मूलतः बीकानेर के काकड़ा से संबंध रखने वाली परी बिश्नोई ने उन लोगों के लिए मिसाल है जो बड़ा सपना देखकर उड़ान भरने को‌ लालायित हैं।

 


परी बिश्नोई (सहायक सचिव, भारत सरकार) अजमेर के अधिवक्ता मनीराम बिश्नोई एवं एसआई सुशीला बिश्नोई की बेटी है। परी तीसरे प्रयास में युपीएससी द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा में अखिल भारतीय स्तर पर 30 वीं रैंक से चयनित होकर आईएएस बनी। परी को प्रथम महिला बिश्नोई आईएएस अफसर (साक्षात्कार के बाद सीधा) बनने का गौरव हासिल है। विभिन्न कार्यक्रमों, वेबिनारों के माध्यम से परी नियमित रूप से बच्चों, युवाओं में संस्कार, शिक्षा के बीजारोपण से लेकर सफलता प्राप्त करने के गुण साझा करती रही हैं। युवावर्ग को सफलता के लिए प्रेरित करने का आपका प्रयास काबिले-तारीफ रहा है। 

परी ने गांव की गलियों से निकलकर ऊंची उड़ान भरने को बेताब बालिकाओं के लिए शीर्ष सफलता की मिसाल पेश की है।

इसे भी पढ़ें


0/Post a Comment/Comments

कृपया टिप्पणी के माध्यम से अपनी अमूल्य राय से हमें अवगत करायें. जिससे हमें आगे लिखने का साहस प्रदान हो.

धन्यवाद!


Hot Widget

VIP PHOTOGRAPHY